A Memorial Poetry

Kaon Rukhsat Hogaya..

Maulana Mahfuzurrahman Miftahi

Mufuz Miftahi

Kaon Rukhsat Ho Gaya Hai Kar ke Sb ko Sogawar
Har Kas o Nakas Wafoor e Gam se Hai Yun Beqarar

Teri Jumla Kawishon Ka Motarif Har Khas o Aam
Hain Dilon Pe Sabt Teri Yaad Ke Naqsh o Nigaar

Garch Duniya Chhor Tu Zer e Zamin Hai Mahw e Khwaab
Teri Roshan Zindagi Hai Ek Uswah Ek Sheaar

Murda Dil Zinda Huye Tarikiyan Gayab Huyeen
Tere Pand o Waaz Se Sab Chhat Gaye Dil Ke Gobaar

Teri Hikmat, Mauezat Ke Jawedani The Noqoosh
Tha Reyaz e Elm o Hikmat Tere Dam Se Lala-Zaar

"Muddaton Roya Karegi Dars o Ifta Ki Bisaat
Tere Dam Se Faiz Payee Ek Khilqat Be Shumaar

Wahdat e Millat Ke Khatir Teri Kawish Ko Salaam
Layegi Ek Din Yaqeenan Teri Mehnat Barg o Baar

Un ke Kaar e Khair Ko Tu Kar Le Aye Maula Qabool
Khaas Rahmat Ho Teri Un Par Mere Parwardegaar

Written by Jawed Akhtar

हिन्दी

"मौलाना महफूज़ुर्रहमान मिफताही की याद में”

कौन रुखसत हो गया है कर के सब को सोगवार।
हर कसो नाकस बफूर ए गम से है यूं बेक़रार।।

तेरी जुमला काविशों का मोअतरिफ हर खासो।आम
हैं दिलों मे नक्श तेरी याद के नक्शो निगार।।

गरचः दुनिया छोड़ तू ज़ेर ए ज़मीं है महवे ख्वाब।
तेरी रौशन ज़िन्दगी है एक उसवा इक शिआर।।

मुर्दा दिल ज़िन्दा हुए, तारीकियां गायब हुयीं।
तेरे पन्दो वाअज़ से सब छट गए दिल के गोबार।।

तेरी हीकमत मौएज़त के जावेदानी थे नक़ूश।
था रियाज़ ए इल्मो हिकमत तेरे दम से लालाज़ार।।

मुद्दतों रोया करेगी दर्से इफता की बिसात।
तेरे दम से फैज़ पाई एक खिलक़त बे शुमार।।

वहदत ए मिल्लत के खातिर तेरी काविश को सलाम।
लाएगी इक दिन यक़ीनन तेरी मेहनत बर्गो बार।।

उनके कार ए खैर ओ तू करले ऐ मौला क़बूल।
खास रहमत हो तेरी उन पर मेरे परवरदिगार।।

लेखन: जावेद अख्तर