Iqraar e Yaar Mein…

Intezaar

Kuchh Aise Mahw Hogaye Iqraar e Yaar Mein

Lutf Intezaar Ka Na Raha Intezaar Mein

— Abul Kalam Azad 

 

हिन्दी में 

कुछ  ऐसे  मह्व होगए इक़रारे  यार में।

लुत्फ इन्तेज़ार का न रहा इन्तेजार में।।

—अबुल कलाम आज़ाद