Dil o Nigah Mein Tere

Tow Line Shayri

Dil o Nigah Mein Tere Argar Main Zinda Hun

Kabhi To Nazr e Karam Ho ki Muntazir Hun Main

हिन्दी

दिलो निगाह में तेरे अगर मैं जिचन्दा हूँ।

कभी तो नज़र करम हो कि मुन्तज़िर हूँ मैं।।