A Memorial Poem

With the Reference of

Dr. Aftab Ahmad Islahi Alig

Kahan Gaye Mere Hamdam

Aftab Islahi alig

Teri  Judai  ke  Sadme  Se  Beqarar Hain Ham
Kahan Gaye Mere Hamdam ki Sogwar Hain Ham

Tu Hamse Door Sahi Par Dilon ke Paas Hai Tu
Hamare Man Mein Mahakta Haia Gulab Hai Tu
Mere Habeeb! Tujhe Kaise Bhool Payenge?
Teri Hayat Hai Darpan, ki Aaftab Hai Tu

Wafoor e Gam se Hain Maamur Beqarar Hain Ham
Kahan Gaye Mere Hamdam ki Sogwar Hain Ham

 

Kabhi Nasheb Kabhi Tha Faraz, Chanlte Rahe
Tumhari Zeest Mein Har Marhale Guzarte Rahe
Na Aasaki Kabhi Pa e Sabaat Mein Junbish
Tamam Umr Yun hi Muskilon se Ladte Rahe

Chala Wo Mard Mujahid ke Beqrar Hain Ham
Kahan Gaye Mere Hamdam ki Sogwar Hain Ham

 

Bisat e Dars Hai Tere Bagair Suni Si
Tere Bagair To Mahfil HaiAb Ye Suni Si
Jo Tu Naheen Hai To Kate Hain Ye Daro Divaar
Tere Bgair To Shakh e Chaman Hai Suni Si

Tu Chshm e Tar Mein Hai Pinha ki Beqrar Hain Fam
Kahan Gaye Mere Hamdam ki Sogwar Hain Ham

 

Ilahi Meri Dua Hai Qbool Kar Le Tu
Khataein Muaaf Hon Neki Qabool Kar Le Tu
Teri Ataa Ho Tera Fazl Ho Sada Un Par
Thekana Un Ka Ho Jannat, Qabool Kar Le Tu.

Dua Balab Hain Dil o Jaan Se Beqarar Hain Ham
Kahan Gaye Mere Hamdam ki Sogwar Hain Ham

Written by Jawed Akhtar 

हिन्दी 

डाकटर आफताब अहमद इसलाही के देहान्त पर

तेरी  जुदाई  के  सदमे से बेक़रार हैं  हभ।
कहां गए मेरे हमदम कि सोगवार हैं हम।।

तु हमसे दूर सही पर दिलो के पास है तू।
हमारे मन में महकता हुआ गुलाब है तू।।
मेरे हबीब! तुझे कैसे भूल पाएंगे।
तेरी हयात है दर्पण, कि आफताब है तू।।

बफूर ए गम से है माअमूर,बेक़रार हैं हम।
कहां गए मेरे हमदम,कि सोगवार हैं हम।।

 

कभी नशैब कभी था फ़राज़, चलते रहे।
तुम्हारे ज़ीस्त के हर मरह़ले गुज़रते रहे।।
न आसकी कभी पा ए सबात मे जुम्बिश।
तमाम उमर यूं ही मुशकिलो से लड़ते रहे।

चला वो मर्द मुजाहिद कि बेक़रार हैं हभ।
कहां गए मेरे हमदम,कि सोगवार हैं हम।।

 

बेसात़ ए दर्स है तेरे बग़ैर सूनी सी।
तेरे बग़ैर तो महफिल है अब सूनी सी।।
जो तू नहीं है तो काटे हैं ये दरो दीवार।
तेरे बग़ैर तो शाख ए चमन है सुनी सी।।

तू चश्मे तर मे है पिनहा यूं बेक़रार हैं हम।
कहां गए मेरे हमदम,कि सोगवार हैं हम।।

 

इलाही मेरी दुआ है क़बूल कर ले तू।
खत़ाऐं मुआफ हो, नेकी क़बूल कर ले तू।
तेरी अत़ा हो, तेरा फज़्ल हो सदा उनपर।
ठेकाना उन का हो जन्नत,क़बूल करले तू।

दुआ बलब है दिलो जां से बेक़रार हैं हम।
कहां गए मेरे हमदम,कि सोगवार हैं हम।।

लेख: जावेद अख्तर