Gazal

Maulana Abul Kalam Azad

Azad

Kyon Aseer e Gesuw e Khamdar Qatil Hogaya

Haay kya Baithe Bithaye Tujhko Aye Dil Hogaya

 

Koyee Nalan Koyee Giryan Koyee Bismil Hogaya

Uske Uthte Hi Digargun Rang e Mahfil Hogaya

 

Intezar Us Gul Ka Is Darja Kiya Gulzaar Ne

Noor Aakhir Deeda e Nargis Ka Zayel Hogaya

 

Unse Talwaren Lagayeen Asise Kuchh Andaaz se

Dil Ka Har Armaan Feda e Dast e Qatil Hogaya

 

Qais Majnun Ka Tasawwur Barh Gaya Jab Najd Mein

Har Bagola Dasht Ka Laila e Mahmal Hogaya

 

Ye Bhi Qaidi Hogaya Aakhir Kamand e Zulf ka

Le  Aseeron  Me  Tere  Azad Shamil   Hogaya

 

हिन्दी में 

क्यूं असीरे गेसूए खमदार क़ातिल हेगया।

हाय क्या बैठे बिठाए तुझको ऐ दिल होगया।।

 

कोई नालां कोई गिरयां कोई बिसमिल होगया।

उसके उठते ही दिगरगूं रंगे महफिल होगया।।

 

इन्तेज़ार उस गुल का इस दर्जा किया गुलज़ार ने।

नूर आखिर दीदा ए नरगिस का ज़़ाएल होगया।।

 

उसने तलवारें लगायीं ऐसे कुछ अन्दाज़ से।

दिल का हर अरमां फेदाए दस्ते कातिल होगया।।

 

क़ैस मजनूं का तसव्वुर बढ़ गया जब नज्द में।

हर बगोला दश्त का लैला ए महमल होगया।।

 

ये भी कैदी होगया आखिर कमन्दे ज़ुल्फ का।

ले असीरों मे तेरे आज़ाद शामिल होगया।।